सेन्ट एम.पी. रियल इस्टेट मार्टगेज स्कीम 

CentMP Real Estate Mortgage Loan:

प्रयोजन

किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत अथवा व्यवसायिक आवष्यकताओं की पूर्ति हेतु परन्तु सट्टेबाजी के उद्वेष्य के लिये नही.

पात्रता

षहरी ,अर्धषहरी,ग्रामीण केन्द्रो में स्थित अचल संपत्ति बंधक के विरुद्व ऋण।

ऋण की मात्रा

न्युनतम राषि रु 50 हजार अधिकतम राषि रु 50.00 लाख
वेतनभोगी आवेदक/आवेदकों के मामले में षुद्व मासिक आय का 30गुना।
गैर वेतनभोगीयों के मामले में आयकर विवरणी में दर्शायी गयी शुद्व वार्षिक आय का 2.5गुना।

प्रतिभूति

षहरी / अर्धषहरी / ग्रामीण केन्द्रो में स्थित ऋण भार से रहित रिहायषी मकान / फलेट / डायव्हरटेड भूखंड(जिसकी चतुर्सीमा स्पष्ट चिन्हांकित हो एवं आसानी से पहचान योग्य हों) /वाणिज्यिक अथवा औद्योगिक संपत्ति जो उधार कर्ता के नाम पर ही हो तथा उसके कब्जे में हो चाहे उसमें वह रह रहा हो या रिक्त हो, का साम्यिक बंधक संपत्ति का मूल्य, ऋण राषि के 150 प्रतिषत के बराबर हो. आंषिक रुप से लीज पर / किराये पर दी गई संपत्ति (अर्थात चार मंजिल की इमारत की दो मंजिले पहले से लीज पर दी गई हो ) को भी प्रतिभूति के रुप में स्वीकार किया जा सकता है तथापि केवल रिक्त / स्वधारित भाग वाली संपत्ति पर सुविधा की मात्रा तय करने के लिये विचार किया जावेगा तथा संपूर्ण संपत्ति का सांम्यिक बंधक निर्मित करना होगा. ऋण सुविधा प्राप्त करने के पष्चात् यदि संपत्ति किराये पर दी जाती है तो इस हेतु बैंक की अनुमति अपेक्षित हैं. स्वीकृति कर्ता अधिकारी अपनी अनुमति तब ही देंगें जहां प्रस्तावित पट्टा (लीज) किसी प्रतिष्ठित संस्थान को दिया जाता हो तो तथा लीज किराया / मासिक किराया बैंक को सौंपा जायेगा.अन्यथा ऋण की चुकौती संपत्ति को किराये पर देने से पहले करनी होगी.
सेन्ट एम.पी. रियल इस्टेट मार्टगेज योजना में डायव्हर्टेड भूखंड के साम्य बंधक की स्थिति में भूखंड की वैधता भलीभांती सूनिश्चित की जावें।

जमानत

संपत्ति के संयुक्त /सह मालिक (यदि कोई हो) की व्यक्तिगत गांरटी

लक्ष्य समूह 

व्यक्ति (एकल या संयुक्त रुप से ) व्यापारी, व्यवसायी,व्यवसायिक अथवा स्वरोजगार करने वाले व्यक्ति जिनकी ज्ञात स्त्रोतों से नियमित षुद्व आय प्रति माह रु 10000/-या इससे अधिक हैं. 

सुविधा का प्रकार

सावधि ऋण/ अधिविकर्ष- ओडी 

ऋण चुकौती अवधि

1. एक समान 72  मासिक किष्तों में जो संवितरण के बाद अगले माह से आरम्भ होगी.
2. चुकौती वास्तविकता के अधार पर निर्धारित करें, जो सामान्यतः सकल मासिक आय का 50% से अधिक न हो. 
मासिक किष्तों की चुकौती के लिये उधारकर्ता ने विधिवत हस्ताक्षर किये गये अग्रिम चैंक जमा पत्र सहित प्राप्त करें.

         Terms and conditions applicable

         Please contact nearest branch for details

      ब्याज दर के लिए ब्याज दर लिंक क्लिक करें

      प्रक्रिया शुल्क के लिए सेवा प्रभार लिंक क्लिक कर