सेन्ट एम.पी. शिक्षा ऋण योजना 

 

उद्धेश्य
शिक्षा ऋण योजना का मुख्य उद्धेश्य मेघावी विद्यार्थियों को देश में एवं विदेश में शिक्षा ग्रहण करने हेतु बैंक से वित्तीय सहायता प्रदान करना है। मुख्य जोर इस बात पर दिया गया है कि, मेघावी विद्यार्थी को गरीब होने के बावजूद भी बैंकिंग सिस्टम से आसान एवं सहन करने योग्य शर्तों पर ऋण प्राप्त हो सके।
पात्रता

 

विद्यार्थी की योग्यता
 विद्यार्थी भारत का नागरिक होना चाहिए।
 उसके द्वारा हायर सेकेन्डरी (10+2 या समतुल्य) परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात प्रवेश परीक्षा/ मेरीट पर आधारित चयन परीक्षा के माध्यम से मान्यता प्राप्त संस्थाओं में उच्च शिक्षा ग्रहण करने हेतु प्रवेश प्राप्त कर लिया हो,  तथापि प्रवेश परीक्षा या चयन हेतु ली गयी परीक्षा में प्राप्त किये गये अंकों के आधार पर ही कुछ पोस्ट ग्रेज्युएट कोर्सेस एव रिसर्च कार्यक्रमों में प्रवेश पाने का नियम नही है। ऐसे मामलों में शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात रोजगार प्राप्ति की संभावनाओं एवं संबंधित संस्था की साख (रेपूटेशन) को ध्यान में रखा जाए।
पात्र पाठयक्रम
(अ) भारत में अध्ययन (निदर्शी सूची)
 अनुमोदित पाठयक्रम जिसमें कि स्नातक/ स्नातकोत्तर डिग्री एवं पी.जी.डिप्लोमा जो कि मान्यता प्राप्त काॅलेजों/ विश्वविद्यालयों द्वारा संचालित किये जाते हो एवं जिन्हे यूजीसी/ शासन/ एआईसीटीई/ एआईबीएमएस / आईसीएमआर इत्यादि से मान्यता प्राप्त हो।
 पाठयक्रम जैसे-आईसीडब्लूए, सीए, सीएफए इत्यादि
IIMs,IITs,IIsc,XLRI,NIFT,NID  इत्यादि द्वारा संचालित पाठयक्रम
 नियमित डिग्री/ डिप्लोमा पाठयक्रम जैसे-एयरोनाटिक्स, पायलट प्रशिक्षण, शिपिंग इत्यादि जो कि डायरेक्टर जनरल आॅफ सिविल एविएशन/ शिपिंग से मान्यता प्राप्त हो। ( यदि उक्त पाठयक्रम भारत में संचालित किये जाते हो)
 प्रतिष्ठित विदेश विश्वविद्यालयों द्वारा भारत में संचालित पाठयक्रम
नोटः 
1. इस योजना में मान्यता प्राप्त संस्थाओं द्वारा संचालित रोजगार आधारित तकनीकी/ व्यावसायिक उपाधियों, स्नातकोत्त्तर उपाधियों/ डिप्लोमा पाठयक्रमों को मंजूर कर सकते हंै।

2. नर्सिंग पाठयक्रमों की मांग को देखते हुए, बैंक इस बात के लिए स्वतंत्र है कि, वे मेनेजमेन्ट कोटा के अंतर्गत प्राप्त प्रवेश हेतु भी ऋण स्वीकृत करें, तथापि फीस की प्रतिपूर्ति शासन/ नियंत्रक बाॅडी द्वारा अनुमोदित राशि तक सीमित होगी। अतः बैंक यह सुनिश्चित करेगा कि उधारग्रहिता विद्यार्थी के पास निधि के अंतर की राशि की पूर्ति हेतु पर्याप्त वित्तीय स्त्रोत उपलब्ध है।
(Referance: www.ugc.ac.in, www.education.nic.in, www.aicte.org.in)
(ब) विदेश में अध्ययनः
 स्नातकः प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों द्वारा संचालित रोजगार आधारित व्यावसायिक/ तकनीकी पाठयक्रम
 स्नातकोत्तरः एमसीए,एमबीए, एमएस इत्यादि
CIMA लंदन एवं अमेरिका में CPA द्वारा संचालित पाठयक्रम
 डिग्री/ डिप्लोमा पाठयक्रम जैसे- एयरोनाटिकल, पायलट ट्रेनिंग, शिपिंग इत्यादि जो कि भारत/विदेश की सक्षम नियंत्रक बाडीज़ के द्वारा भारत/ विदेश में रोजगार प्राप्ति के उद्धेश्य से मान्यता प्राप्त हो।
(Referance : www.webometrics.info (indicative only)
ऋण हेतु पात्र व्यय
i)  कालेज/ स्कूल/ हास्टेल को भुगतान योग्य फीस *
ii) परीक्षा, लायब्रेरी, लेबोरेटरी फीस
iii) यात्रा व्यय/ पैसेज मनी विदेश में अध्ययन हेतु
iv) छात्र उधाग्रहिता के लिये बीमा प्रीमीयम यदि आवश्यक हो।
v) सुरक्षा निधि,बिल्डींग निधि/ वापसी योग्य जमा संस्था के बिल्स/ रसीद के साथ **
vi) पुस्तकों/ उपकरणों/ सामग्री/ युनिफार्मस् के क्रय हेतु***
vii) उचित लागत पर कम्प्यूटर का क्रय (यदि पाठयक्रम पूर्ण करने हेतु आवश्यक हो)***
viii) अन्य व्यय जो पाठयक्रम पूर्ण करने के लिए आवश्यक हो जैसे- स्टडी टूर्स, प्रोजेक्ट वर्क, थीसिस इत्यादि हेतु ***

नोटः 
 * विद्यार्थी द्वारा हास्टेल से बाहर निवास करने पर उचित लाजिंग एवं  बोर्डिंग प्रभारों का भुगतान किया जाए। 
**  इन व्ययों को स्वीकार करते समय ध्यान रखा जाए कि इन व्ययों की राशि सम्पूर्ण पाठयक्रम अवधि हेतु देय ट्युशन फीस के 10 प्रतिशत से अधिक नही हो।
*** ऐसा भी हो सकता है कि उपरोक्त बिन्दु क्रमांक vi,, vii एवं viii में दर्शित व्यय कालेज द्वारा निर्धारित फीस अनुसूची में उपलब्ध न हो। इसलिए इस मदों में होनेवाले व्ययों हेतु उचित आकलन किया जाना  चाहिए, तथापि बिन्दु क्र vi, vii एवं viii में सम्मिलित व्ययों की अधिकतम राशि पाठयक्रम पूर्ण करने हेतु भुगतान योग्य कुल फीस के 20 प्रतिशत से अधिक नही होना चाहिए।
ऋण की प्रमात्रा
उपरोक्त बिन्दु क्र 3 में वर्णित आवश्यक व्ययों पर बिन्दु क्रमांक 5 में वर्णित मार्जिन निर्धारित करते हुए निम्न लिखित सीमा के तहत ऋण स्वीकृत किया जाए-
• भारत में अध्ययन - अधिकतम रु. 10.00 लाख तक
• विदेश में अध्ययन - अधिकतम रु. 20.00 लाख तक
मार्जिन
रु. 4.00 लाख तक - निरंक
रु. 4.00 लाख से अधिक - 
भारत में अध्ययन - 5%
विदेश में अध्ययन - 15%
-स्कालरशिप/ असिस्टेन्टशिप की राशि को मार्जिन माना जायेगा।
-मार्जिन राशि वर्ष दर वर्ष के आधार पर ऋण वितरण करते समय अनुपातिक आधार पर प्राप्त की जाए।
प्रतिभूति
रु. 4.00 लाख तक - अभिभावक को संयुक्त ऋणी बनाया जायेगा। कोई  प्रतिभूति नहीं ली जायेगी। 

रु. 4.00 लाख से अधिक- अभिभावक के संयुक्त ऋणी के रुप में दस्तावेज  एवं रु. 7.50 लाख तक निष्पादन के अलावा, संपाश्र्विक प्रतिभूति के रुप में बैंक  को स्वीकार्य तीसरे पक्ष की जमानत ली जायेगी।  आपवादिक मामलों में बैंक तीसरे पक्ष की जमानत प्राप्त  करने में छूट प्रदान कर सकता है, जहाँ वह इस बात से संतुष्ट हो जाए कि, संयुक्त ऋणी के रुप में  दस्तावेज निष्पादित करने वाले अभिभावक की हैसियत पर्याप्त है। 

रु. 7.50 लाख से अधिक - अभिभावक संयुक्त ऋणी होंगे।
- उचित मूल्य की दृष्य संपार्शिविक प्रतिभूति जो कि बैंक 
को स्वीकार्य हो के साथ किश्तों की अदायगी हेतु 
विद्यार्थी की भविष्य की आय का समनुदेशन पत्र। 

नोटः 
• दस्तावेज निष्पादन विद्यार्थी एवं माता/ पिता/ अभिभावक द्वारा संयुक्त ऋणी के रुप में किया जायेगा।
• प्रतिभूति भूमि/ भवन/ शासकीय प्रतिभूति/ पब्लिक सेक्टर बाँड्स/ युटीआई के यूनिटस्/ एनएससी/ केव्हीपी/ जीवन बीमा पाॅलीसी/ सोना, शेयर्स/ म्यूच्यूल फंडस् यूनिटस्/ डिबेंचर्स/ सावधि जमा जो कि विद्यार्थी/ माता/ पिता/ अभिभावक/ अन्य कोई तीसरे पक्ष के नाम की हो, जो बैंक को स्वीकार्य हो।
• जहाँ कहीं भूमि/ भवन पूर्व से ही बंधक हो, वहां भार रहित भाग पर द्वितीय प्रभार प्रभारित किया जायेगा, बशर्ते कि, उक्त भाग का मूल्य ऋण राशि को आवरित करने हेतु पर्याप्त हो। 
ब्याज दर
ब्याज दरें बैंक द्वारा निर्धारित बीपीएलआर आधारित होगी। वर्तमान में बैंक का बीपीएलआर 12.50:है।

विवरण

ब्याज दरें (%)

पुरुष विद्यार्थी

11.50 (BPLR-1%)

महिला विद्यार्थी

11.00 (BPLR-1.50%)


- अध्ययन अवधि एवं अदायगी अवधि प्रारंभ होने तक साधारण ब्याज प्रभारित किया जायेगा।
- अध्ययन अवधि एवं अदायगी अवधि प्रारंभ होने तक की गेस्टेशन अवधि मे ब्याज की अदायगी करने या नही करने का विकल्प विद्यार्थी पर छोडा जाय। गेस्टेशन अवधि के दौरान नामे किये गये ब्याज को मूलधन में जोड़कर अदायगी हेतु ईएमआई का निर्धारण किया जाए।
मूल्यांकन
/ स्वीकृति/ वितरण
• ऋण आवेदन  शाखाओं को सीधे प्राप्त होंगे आवेदन प्राप्त होने पर प्राप्ति की अभिस्वीकृति स्वरुप प्राप्ति का संदर्भ क्रमांक जारी करें। प्राप्ति की अभिस्वीकृति में उस बैंक अधिकारी का संपर्क विवरण दिया जाय जिससे कि ऋण वितरण में विलंब होने पर संपर्क किया जा सके।
• सामान्यतः पूर्ण ऋण आवेदन जो कि, आवश्यक दस्तावेजो के साथ प्राप्त हुआ हो की, प्राप्ति दिनांक से 15 दिन के अंदर स्वीकृति / निरस्तीकरण की सूचना आवेदक को दी जानी चाहिए।
• सामान्य प्रक्रिया के तहत आवेदक के ऋण प्रस्ताव का मूल्यांकन करते समय केवल विद्यार्थी की भविष्य की आय संभावना को ध्यान में रखा जाय।
• ऋण आवेदन के निरस्ती में सम्बन्धित शाखा के नियंत्रक कार्यालय के अधिकारी की सहमति होना चाहिए तथा आवेदक को निरस्तीकरण का कारण सूचित किया जाना चाहिए।
• सामान्यतः ऋण आवेदन उस शाखा द्वारा प्राप्त किया जायेगा जो कि, विद्याार्थी के माता/ पिता के निवास से नजदीक हों तथापि, ऋण स्वीकृति बैंक द्वारा प्रदत्त अधिकारों के अनुसार अधिकृत प्राधिकारी द्धारा दी जायेगी। 
• जहाँ तक संभव हो ऋण राशि का वितरण आवश्यकता/मांग के अनुसार सीधे संस्था/उपकरणों के विक्रेता को चरणों में किया जायेगा।
अदायगी
गेस्टेश
न अवधि पाठयक्रम अवधि + 1 वर्ष या रोजगार प्राप्त होने के 6 माह पश्चात जो भी पहले हो।

 

 यदि विद्यार्थी निर्धारित अवधि के दौरान पाठयक्रम पूर्ण करने में असमर्थ रहता है तब उसे पाठयक्रम पूर्ण करने हेतु अधिकतम 2 वर्ष का समय विस्तार अनुमत किया जा सकता है यदि विद्यार्थी नियंत्रण के बाहर के कारणों की वजह से पाठयक्रम पूर्ण करने मे असमर्थ रहता है तब स्वीकृतकर्ता प्राधिकारी अपने स्व विवेक से पाठयक्रम पूर्ण करने हेतु लगने वाली आवश्यक अवधि हेतु विस्तार प्रदान कर सकता है ऐसे मामले में जहा विद्यार्थी मध्य में ही पाठयक्रम छोड देता है, तब बैंक विद्यार्थी तथा माता पिता की सहमति से यथोचित भुगतान अनुसूची निर्धारित करें।
 गेस्टेशन अवधि के दौरान प्रभारित ब्याज को मूलधन में जोड़कर ईएमआई निर्धारित करें।
 गेस्टेशन अवधि (पाठयक्रम अवधि एवं अदायगी प्रारंभ होने तक की अवधि)में प्रभारित ब्याज की अदायगी गेस्टेशन अवधि के दौरान किये जाने पर 1 प्रतिशत ब्याज रियायत गेस्टेशन अवधि हेतु दी जायेगी।
 ऋण कि अदायगी इक्विटेड मासिक किस्तों में निम्नानुसार की जायेगीं
ऋण राशि अदायगी अवधि
रु. 7.50 लाख तक 10 वर्ष तक
रु. 7.50 लाख से अधिक 15 वर्ष तक

नोटः ऋण अदायगी के दौरान नियत तिथि के पूर्व ऋण अदायगी किये जाने पर कोई पूर्व अदायगी शुल्क वसूल नही किया जायेगा।
बीमा
विद्यार्थी की सहमति से उसके जीवन का बीमा किया जाए।
अनुसरण/ निगरानी
बैंक,कालेज/विश्वविद्यालयों से नियमित अंतराल पर विद्यार्थी की प्रगति रिपोर्ट प्राप्त करें। विदेश में अध्ययन के मामले में बैंक एसएसएम/ युआईएम/ परिचय पत्र प्राप्त करें तथा इसे अभिलेख में रखें। यूआईडीआईए द्वारा जारी युआईडी नंबर जब भी प्राप्त होता तब उसे अभिलेख में रखें।
प्रक्रिया शुल्क
देश में अध्ययन हेतु स्वीकृति पर किसी भी प्रकार का प्रक्रिया/ मूल्यांकन शुल्क नहीं वसूला जाए। परंतु, विदेश में अध्ययन के मामले में स्वीकृत राशि पर 0.50 प्रतिशत प्रक्रिया शुल्क वसूला जाए।
सक्षमता प्रमाण पत्र
विदेश में अध्ययन हेतु जाने वाले विद्यार्थियों के संबंध में सक्षमता प्रमाण पत्र जारी कर सकते हैं। इस प्रयोजन हेतु आवेदक से आवश्यकता के अनुसार वित्तीय एवं अन्य सहायक दस्तावेज प्राप्त किये जाएँ (कुछ विदेशी विश्वविद्यालय विद्यार्थियों से उनके प्रायोजक विद्यार्थी की शिक्षा पूर्ण होने तक आने वाला संभावित खर्च व्यय करने में सक्षम है या नहीं यह सुनिश्चित करने के लिए विद्यार्थी के बैकर्स से प्रायोजक सम्पन्नता/ आर्थिक सक्षमता प्रमाण पत्र की मांग करते हैं)
अन्य शर्तें

 

एक ही परिवार के एक से अधिक बच्चों को ऋण स्वीकृति
एक ही परिवार के एक भाई और/ या बहन पर शिक्षा ऋण बकाया रहने पर भी दूसरे मेघावी छात्र की इस योजना के तहत ऋण प्राप्त करने हेतु पात्रता प्रभावित नहीं होगी।
न्यूनतम आयु
शिक्षा ऋण प्राप्ति करने हेतु पात्र होने हेतु विद्यार्थी के न्यूनतम आयु संबंधित कोई प्रतिबंध लागू नहीं है, तथापि यदि विद्यार्थी नाबालिग है तथा दस्तावेज उसके माता पिता द्वारा निष्पादित किये गये हैं तब बैंक अभिभावक से एक आवश्यक पत्र प्राप्त करे कि, विद्यार्थी के वयस्क होने पर उसके द्वारा ऋणी के रुप में दस्तावेज निष्पादित किये जावेंगे।
टाॅपअप ऋण
बैंक पुनः अध्ययन हेतु विद्यार्थियों को पात्र सीमा के तहत टाॅपअप ऋण स्वीकृत कर सकता है तथापि,  ऐसा अध्ययन प्रथम ऋण की गेस्टेशन अवधि के दौरान प्रारंभ होता हो। ऋण की अदायगी द्वितीय पाठयक्रम की समाप्ति के पश्चात एवं योजना में प्रदत्त गेस्टेशन अवधि के पश्चात प्रारंभ होगी।
नोडयूज प्रमाण पत्र
शिक्षा ऋण स्वीकृति के लिए नोडयूज को प्रारम्भिक शर्त के रुप में नहीं रखा जाए। बैंक केवल किसी अन्य बैंक का ऋण नहीं होने के संबंध में शपथ पत्र प्राप्त करे।
ऋण आवेदन का निराकरण
सामान्यतः ऋण आवेदन का निपटारा 15 दिन से 1 माह की अवधि के अंदर कर दिया जाए।

• Please contact nearest branch for details 

• Terms and conditions applicable